Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

27.2.17

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग पूछ रहा है आवेदक की जाति

हरियाणा में दी जाने वाली नौकरियों का आधार अब योग्यता होगा या फिर जाति, इस समय यह चर्चा जोरों पर चल रही है। दरअसल हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने हाल में नौकरियों के लिए आवेदन मांगे हैं। इसके लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा विज्ञापन संख्या 5/2016,6/2016 और7/2016  निकाला गया लेकिन इस विज्ञापन में आवेदकों से फार्म भरने के दौरान सब कैटेगरी/सब कास्ट का कॉलम दिया गया है। विभाग द्वारा बनाए गए इस कॉलम को देखकर ऐसा लगता है कि अब आवेदन करने वालों को उनकी योग्यता के अनुसार नहीं उसकी जाति के अनुसार रोजगार मिलेगा।

वरिष्ठ पत्रकार विष्णु गुप्त की ये है नई किताब


फोटो जर्नलिस्ट प्रदीप मैनी से एपीआरओ ने की बदतमीजी



दृगराज मद्धेशिया दैनिक जागरण पहुंचे, शत्रुघ्न का पत्रिका समूह ने किया लखनऊ ट्रांसफर

दृगराज मद्धेशिया

शत्रुघ्न गुप्ता

हम मूतेंगे, टोकोगे तो पीटेंगे

प्रसिद्ध साहित्यकार और फ़िल्मकार देवी प्रसाद मिश्र पर 22 फरवरी 2017 को डीटीसी के कंडक्टर और ड्राइवर ने शाम साढ़े 7 बजे इसलिए जानलेवा हमला किया क्योंकि उन्होंने उन्हें अपनी बस खड़ी करके फुटपाथ और सड़क के बीच में पेशाब करने पर टोक दिया यानि आपत्ति कर दी।

 


पत्रकार अभिषेक उपाध्याय के नाम जमशेद क़मर सिद्दीक़ी का पत्र

पढ़ने के लिए नीचे क्लिक करें...

25.2.17

प्रभु की ट्रेल का बुरा हाल... हिमगिरी एक्सप्रेस का हाल जानिए




खबर पढ़ने के लिए नीचे क्लिक करें

Plz delete mentioned items in view of High Court Order

Dear Mr. Yashwant,

While surfing net, I just accidently observed below two articles (Links mentioned), which violates Bombay High Court Interim Order, and I request you to delete them immediately, as we all should maintain the highest order of regards for judiciary.

23.2.17

स्ट्रिंगरों का आधा कमीशन हड़प गया हिन्दुस्तान मुरादाबाद का जीएम, बगावत हुई

हिन्दुस्तान मुरादाबाद के जीएम गौरव बिसारिया ने विधानसभा चुनावों के
दौरान कड़ी मेहनत से विज्ञापन इकट्ठा करने वाले स्ट्रिंगरों के हिस्से का
आधा कमीशन हड़प लिया है। स्ट्रिंगरों को इसकी जानकारी तब हुई, जब
मुरादाबाद मुख्यालय में वह अपनी गाढ़ी मेहनत की कमाई का हिस्सा लेने
पहुंचे। वहां पर जीएम ने सभी स्ट्रिंगरों को कमीशन का आधा हिस्सा देने का
फरमान सुना दिया।

पांचवां चरण : बदला-बदला नजर आ रहा है चुनावी नजारा

अजय कुमार, लखनऊ

2012- सपा-37, बसपा-03,भाजपा-05,कांग्रेस-05,पीस पार्टी-02


उत्तर प्रदेश विधान सभा के पांचवें चरण में 27 फरवरी को 11 जिलों(बलरामपुर, गोण्डा, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीर नगर, सुलतानपुर और अमेठी) की 52 सीटों पर एक करोड़ 84 लाख मतदाता 617 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। 2012 के विधान सभा चुनाव में यह इलाका सपा के दबदबे वाला रहा था। सपा ने 37 सीटों पर जीत हासिल की थी,जबकि बसपा-3,भाजपा-5 कांग्रेस-05 और पीस पार्टी को 2 सीट पर ही जीत हासिल हो पाई थी। यह क्षेत्र कई मायनों में बाकी इलाकों से अलग-थलग नजर आता है। पांचवें चरण में वह जिला (अबंडेकरनगर) भी शामिल है जहां से कभी बसपा मुखिया चुनाव लड़ चुकी है। यहां बसपा का प्रभुत्व था लेकिन 2012 में जनता ने इन्हें पटखनी दे दी। वहीं अयोध्या के नाम पर राजनीति करने वाले भाजपा को अयोध्या की सीट तक नहीं मिली। इसी तरह अमेठी गांधी परिवार की परंपरागत सीट रही है,लेकिन यहां से 2012 में मतदाताओं ने उनके प्रत्याशियों को विधानसभा तक पहुंचने नहीं दिया।

भारत में विभिन्न समुदाय द्वारा बरती जाने वाली भाषाओं को संवैधानिक दर्जा दिया जाना चाहिए


कैम्पेन फॉर लैंग्यवेज एक्टवलिटी एंड राइटस (क्लीयर), भारतीय भाषा समूह, और मैथली भोजपुरी अकादमी इस मांग में आपनी साझेदारी व्यक्त करती है कि भारत में विभिन्न समुदाय द्वारा बरती जाने वाली भाषाओं को संवैधानिक दर्जा दिया जाना चाहिए और दिल्ली स्थित आकाशवाणी से भारतीय भाषाओं के समाचार प्रसारण की व्यवस्था को देश भर में फैले ऑल इंडिया रेडियों के विभिन्न केन्द्रों में स्थानांतरित करने के फैसले का कड़े शब्दों में विरोध करती है। यह फैसला भारतीय भाषाओं का दर्जा स्थानीय भाषाओं के स्तर पर ले जाने की लंबी योजना का हिस्सा है।

21.2.17

राजनीति के बिगड़े बोल

-संजय द्विवेदी

     भारतीय राजनीति में भाषा की ऐसी गिरावट शायद पहले कभी नहीं देखी गयी। ऊपर से नीचे तक सड़कछाप भाषा ने अपनी बड़ी जगह बना ली है। ये ऐसा समय है जब शब्द सहमे हुए हैं, क्योंकि उनके दुरूपयोग की घटनाएं लगातार जारी हैं। राजनीति जिसे देश चलाना है और देश को रास्ता दिखाना है,वह खुद गहरे भटकाव की शिकार है। लोग निरंतर अपने ही बड़बोलेपन से ही मैदान जीतने की जुगत में हैं और उन्हें लगता है कि यह ‘टीवी समय’ उन्हें चुनावी राजनीति में स्थापित कर देगी। दिखने और बोलने की संयुक्त जुगलबंदी ने टीवी चैनलों को कच्चा माल उपलब्ध कराया हुआ है तो राजनीति में जल्दी स्थापित होने की त्वरा में लगे नए नौजवान भी भाषा की विद्रूपता का ही अभ्यास कर रहे हैं।

ज्योति जासवाल ने एबीपी न्यूज़ को कहा अलविदा, इंडिया टीवी पहुंची


राम और बुद्ध की प्राचीन धरा पर हिंदी की अनुगूँज

पटना । “रचनाकर्म और रचनाकार की मंशा एवं दिशा स्पष्ट रहनी चाहिए। नये रचनाकारों के प्रतिबद्ध लेखन एवं सरोकार से आशा बनी हुई है कि साहित्य की उत्तरजीविता संभावनाओं से अभी भी लबरेज़ है।” ये बात हिंदी के प्रतिष्ठित एवं प्रगतिशील आलोचक डॉ. खगेन्द्र ठाकुर ने 13 वें अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन के उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए कही।

राजिम महाकुंभ घूम आए टीवी पत्रकार अश्विनी शर्मा






चौथा चरणः नेहरू-इंदिरा के गढ़ से बुंदेलखंड तक की जंग

मतदान 23 फरवरी, 12 जिले 53 सीटें : उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में चौथे चरण की जंग भी कम महत्वपूर्ण नहीं है। पश्चिम से शुरू हुई चुनावी जंग अवध होते हुए बुंदेलखंड (सात जिलों की 19 सीटें) के साथ-साथ नेहरू-इंदिरा खानदान के सियासी विरासत वाले जिलों रायबरेली और इलाहाबाद पहुंची तो नेताओं का सियासी मिजाज भी बदल गया। बुंदेलखड प्रदेश का सबसे पिछड़ा हुआ इलाका है। यहां की गरीबी, भुखमरी, पिछड़ापन आजादी के 70 वर्षो के बाद भी दिल को झंझोर देता है।

गलत जानकारी प्रकाशित कर रहा हिंदुस्तान अखबार

हिंदुस्तान अखबार गलत खबर छापकर लोगों को कर रहा है भ्रमित. मंगलवार को हिंदुस्तान अखबार ने मेरठ अंक के पेज तीन पर खबर छापी कि आज मेरठ से इलाहाबाद जाने वाली संगम एक्सप्रेस रद्द रहेगी। स्टेशन पहुंचकर जब लोग अपना टिकट कैंसल कराने को बोले तो जानकारी मिली कि संगम एक्सप्रेस अपने नियत समय पर मेरठ स्टेशन से रवाना होगी।

ashtwayik Sharma
ashtwayik@gmail.com

ये ब्रजेश पांडेय एनडीटीवी वाले रवीश कुमार के भाई हैं!


चर्च तले अंधविश्वास