Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

21.10.17

पत्रिका के पोर्टल में गंदी स्टोरीज लिखी जाने लगी, देखें जरा


यूपी पीएससी में नए दौर का आगाज़

यूपी में  यूपी पीएससी की  तैयारी में लगे छात्रों  के लिए  दीवाली के पहले  यूपी पीएससी से एक  अहम खबर आई है |  यूपी पीएससी ने अपने यहाँ इम्तेहान के पैटर्न में एक बड़ा बदलाव किया है | यूपी पी एस सी में  भ्रष्टाचार की बुनियाद  कहे जाने वाले इस परीक्षा के पैटर्न में बड़ा बदलाव करते हुए इम्तिहान  में इन्टरव्यू के अंक पहले से आधे कर दिए है ताकि इन्टरव्यू के जरिये पीसीएस  परीक्षा की नियुक्ति में भ्रष्टाचार के  खेल पर अंकुश लगाया जा सके | आयोग ने एक और अहम् फैसला यह भी लिया है की अब पीसीएस की मुख्य परीक्षा में केवल एक ऑप्शनल सब्जेक्ट होगा और सामान्य अध्ययन यानी जी एस में दो की चार पेपर्स होंगे | अगले साल से इम्तिहान का यह नया  पैटर्न लागू होगा | इस बदलाव को लेकर यूपी पीएससी की  तैयारी में लगे तलबा को दीपावली के पहले योगी हुकूमत ने एक बड़ा तोहफा दिया है |

अभिषेक चंद्रा बने सूर्या समाचार के बिहार ब्यूरो चीफ


पत्रकार की करंट लगने से मौत


स्पोर्ट्स फ़्लैशेज़ में न टाइम पर सैलरी आती थी और न ही लोग प्रोफ़शनल थे, लिहाज़ा मैंने अलविदा कह दिया




आईपीएस राजेश पांडेय ने पदमभूषण नीरज के साथ मनाई दिवाली





ये कैसा देश, ये कैसी आजादी... जहां अब भी भूख से होती है मौत






यूपी में फिर एक पत्रकार की गोली मार कर हत्या


17.10.17

जागरण कर्मी के पक्ष में आया फैसला, पढ़ें लेबर कोर्ट के आदेश की कापी


पनामा पेपर का फ्राड उजागर करने वाली चर्चित महिला ब्लागर की हत्या



पनामा पेपर लीक्स ने दुनियाभर के बड़े-बड़े नेताओं के बारे में बड़े खुलासे किए थे, लेकिन इस लीक के पीछे जिस जर्नलिस्ट का हाथ था जिसने दुनियाभर की राजनीतिक और उद्योग घरानों को हिलाकर रख दिया था, उसकी हत्या कर दी गई है। पनामा पेपर लीक्स को सामने लाने वाली पत्रकार डैफनी कैरुआना गलिजिया की बम धमाके में मौत हो गई है। उनकी मौत माल्टा में हुए बम धमाके में हुई है। उन्होंने जो दस्तावेज अपने ब्लॉग के जरिए लीक किए थे, उसे पढ़ने वालों की संख्या उनके देश के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले अखबार से भी कहीं ज्यादा थी। सोमवार की दोपहर को गलीजिया की कार पर धमाका किया गया, जिसमें उनकी कार के परखच्चे उड़ गए और इसका मलबा पास के मैदान में चारो ओर फैल गया। उन्होंने हाल ही में माल्टा के प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट और उनके दो करीबियों के बारे में बड़ा खुलासा किया था। गलीजिया पर हमले की अभी तक किसी गुट ने जिम्मेदारी नहीं ली है। लेकिन माल्टा के राष्ट्रपति मरी लुइस कोलेरो प्रका ने शांति की अपील की है।

रोहतक में अखबार विक्रेता हड़ताल पर







16.10.17

अखबारों से जनहित के मुद्दे गायब, स्कीमों के जरिए लुभाकर अखबार बेचने का धंधा




यूपी में पुलिस मुठभेड़ पर उठते सवाल और संदेह की वजह

रविश अहमद
उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा बदमाशों से लगातार जारी मुठभेड़ को योगी आदित्यनाथ द्वारा मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद के उस बयान से सीधा जोड़ने में कोई बुराई नही जिसमें उनके द्वारा बदमाशों को सीधे मंच से चेतावनी दी गयी थी कि गुंडा व अराजक तत्व प्रदेश छोड़कर चले जायें। इसके बाद कुछ समय तक क्राईम कन्ट्रोल नही हुआ तो प्रदेश पुलिस द्वारा मुठभेड़ों का अम्बार लगा दिया गया। ज़ाहिर है इसमें यह तथ्य जांचने की आवश्यकता ही नही है कि प्रदेश सरकार की इस सब में सहमति है या नही।

कवरेज करने गये पत्रकार को दारोगा ने जबरन उठाया, दो घंटे किया थाने में बंद

दारोगा ने दी गालियां, मोबाइल छीनकर किया वीडियो डिलीट

मथुरा / गोवर्धन। मथुरा पुलिस की मनमानी का हाल अजीबोगरीब है। अपराध पर रोक लगाने की बजाय पत्रकार पर हमले कर रही है। सोमवार को ऐसी ही एक घटना घटी है। पत्रिका के लिए कवरेज करने गए निर्मल राजपूत के साथ थाना हाईवे के दारोगा ने गाली गलौज की और उनकी मोबाइन छीन ली। इतना ही नहीं उन्हें थाने में अपराधी की तरह नीचे बैठा दिया गया। काफी देर के बाद जब कई पत्रकार थाने पर पहुंचे तब निर्मल को रिहा गया। राजपूत ने बताया कि मोबाइल से कई पर्सनल वीडियो और कांटैक्ट भी उड़ा दिए गए है।

मीडिया हाउस और नहीं कुछ, ब्लैकमेलिंग के मकान हैं

मीडिया पर लिखी इस कविता पर गौर करें :- - 

आज कलम का कागज से मै दंगा करने वाला हूँ,
मीडिया की सच्चाई को मै नंगा करने वाला हूँ ।

मीडिया जिसको लोकतंत्र का चौंथा खंभा होना था,
खबरों की पावनता में जिसको, गंगा होना था,